नमो हेरम्बभैरवाय

हेरम्बभैरव गणपति का अत्यन्त गोपनीय भैरवस्वरूप हैं । हेरम्बभैरव का क्षिप्रसिद्धिप्रद दशाक्षरमंत्र द्वादशसहस्र श्लोकों वाले ब्रह्मयामल के ७६ पटल में निर्देशित हैं । हेरम्बभैरव दिगम्बर ,कपालधारण करने वाले, चतुर्हस्तीमुख तथा दश भुजाओं वाले हैं । जो महामूषकप्रेत पर आरूढ़ हैं। हेरम्बभैरवी इनकी शक्ति है जो कि इन्हीं के समान स्वरूप वाली हैं। हेरम्बभैरव का मण्डल अनेकों योगिनीगण से शोभित हैं । हेरम्बभैरव की साधना गाणपत्यवाममार्ग से की जाती हैं।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s